Saturday, July 13, 2024
Home Stories सोने का अंडा - The Golden Egg | Hindi Stories for Kids...

सोने का अंडा – The Golden Egg | Hindi Stories for Kids | बच्चों की हिंदी कहानियाँ









एक समय की बात है रतनपुर नामक गांव में विष्णु नाम का एक आदमी रहता था वह मुर्गियों के अंडो का व्यापार करता था और अपना घर चलाता! विष्णु के पास बहुत सारी  मुर्गियां थी जिनके अंडे वह बेचा करता था! हर दिन  वह  पोएट्री  फॉर्म आकर मुर्गियों की देखभाल  करता तथा उनका पूरा ध्यान रखता और जो भी अंडे मुर्गियां देती उन्हें बाजार में बेच देता! विष्णु का इसी तरह गुजारा चल रहा था!











यह भी पढ़े: भूतिया कुआँ और किसान | Bhutiya Kuva | Stories for Kids | Hindi Moral Stories

सोने का अंडा – The Golden Egg | Hindi Stories for Kids


एक दिन की बात है विष्णु सुबह-सुबह मुर्गियों के अंडे इकट्ठे करने आया तभी उसकी नजर एक अंडे पर पड़ी और वह  चौक गया!अरे यह क्या है? यह तो सोने का अंडा लग रहा है! देखूं तो इसे “हां यह तो सच में सोने का ही अंडा है वाह वाह मेरी तो किस्मत खुल गई है”
सोने का अंडा मिलते ही उसने वह अंडा बाजार में बेच दिया !  अब वह घर में सभी जरूरत की चीजें लाने लगा
 हर रोज सोने का अंडा मिलने से वह अमीर होता गया ,परंतु धीरे-धीरे वह और अमीर होने के सपने देखने लगा  और उसका लालच बढ़ता गया ! “ऐसे ही  मैं नगर का सबसे धनवान व्यक्ति बन जाऊंगा”

यह भी पढ़े: चालाक बकरी – Hindi Kahaniya for Kids | Stories for Kids | Hindi Moral Stories

दिन बीतते गए अब उसने सोने के अंडे बेच बेच कर कई सारी महंगी चीजें खरीद ली! अब उसके पास पैसों की कोई कमी नहीं थी परंतु फिर भी विष्णु  को तो नगर का सबसे अमीर व्यक्ति बनना था !अब एक सोने के अंडे से  उसका काम नहीं चल रहा था ! वह कहते हैं ना लालच इंसान का सबसे बड़ा दुश्मन है वैसा ही हुआ, विष्णु अब सोचने लगा- “क्यों ना  में एक अंडे के बजाय  सारे अंडे एक साथ ही निकाल लूँ ..”
सबसे ज्यादा अमीर व्यक्ति बनने के सपने देखने वाला विष्णु अगले दिन उठ कर सीधे मुर्गी के पास जाता है!
“आज भी एक ही अंडा- ऐसे तो मैं  कब अमीर बनूंगा ! क्या यार!एक काम करता हूं सारे अंडे एक साथ ही निकाल लेता हूं!”

तो अब जो नहीं होना चाहिए था वह विष्णु ने कर दिया लालची विष्णु ने मुर्गी का पेट काट दिया और जब उसने देखा मुर्गी के पेट में कुछ नहीं है तो वह दुखी हो गया और कहने लगा- “अरे यह क्या, यहां तो एक भी सोने का अंडा नहीं है! हे भगवान यह मैंने क्या कर दिया, मैंने लालच में अपना ही नुकसान कर दिया!”

 तो बच्चों इस कहानी से हमें सबक मिलता है की लालच बुरी बात है हमें कभी भी लालच नहीं करना चाहिए !
धन्यवाद !


- Advertisment -

Most Popular

DMCA.com Protection Status