Friday, February 3, 2023
Home Gulzar Shayari On Life In Hindi Gulzar Shayari Images (गुलज़ार शायरी) Gulzar Shayari,Quotes In Hindi

(गुलज़ार शायरी) Gulzar Shayari,Quotes In Hindi

कुछ अलग करना हो तो
भीड़ से हट के चलिए,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं
-Gulzar Sahab

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ
-Gulzar Sahab

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari In Hindi

Gulzar Shayari In Hindi Images

अच्छी किताबें और अच्छे लोग
तुरंत समझ में नहीं आते हैं,
उन्हें पढना पड़ता हैं
-Gulzar Sahab

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है
-Gulzar Sahab

Gulzar Love Shayari

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई
-Gulzar Sahab

इतना क्यों सिखाई जा रही हो जिंदगी
हमें कौन से सदिया गुजारनी है यहां
Gulzar Sahab

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari On Life In Hindi

Gulzar Shayari On Life In Hindi Images

आज हर ख़ामोशी को मिटा देने का मन है
जो भी छिपा रखा है मन में लूटा देने का मन है..
-Gulzar Sahab

थोड़ा सा रफू करके देखिए ना
फिर से नई सी लगेगी
जिंदगी ही तो है
Gulzar Sahab

gulzar shayari,Gulzar Shayari In Hindi,Gulzar Love Shayari,Gulzar Shayari On Life In Hindi,Gulzar Shayari In Hindi Font,Shayari Of Gulzar,Gulzar Shayari On Life In Hindi,Zindagi Gulzar Hai Shayari,Gulzar Shayari Hindi,गुलज़ार शायरी | Gulzar Shayari Sad,Gulzar Shayari On Zindagi,Zindagi Gulzar Hai Quotes,Gulzar Shayari | गुलज़ार साहब की शायरी कोट्स.

Gulzar Shayari In Hindi Font

Gulzar Shayari In Hindi Font

मैं वो क्यों बनु जो तुम्हें चाहिए
तुम्हें वो कबूल क्यों नहीं
जो मैं हूं
Gulzar Sahab

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं
-Gulzar Sahab

बहुत छाले हैं उसके पैरों में
कमबख्त उसूलो पर चल होगा
-Gulzar Sahab

Shayari Of Gulzar

सुनो…
जब कभी देख लुं तुमको
तो मुझे महसूस होता है कि
दुनिया खूबसूरत है
-Gulzar Sahab

मैं दिया हूँ
मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari On Life In Hindi

Gulzar Shayari On Life In Hindi Images

बहुत अंदर तक जला देती हैं,
वो शिकायते जो बया नहीं होती
Gulzar Sahab

एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद
दूसरा सपना देखने के हौसले का नाम जिंदगी हैं
-Gulzar Sahab

Zindagi Gulzar Hai Shayari

घर में अपनों से उतना ही रूठो
कि आपकी बात और दूसरों की इज्जत,
दोनों बरक़रार रह सके
Gulzar Sahab

कौन कहता हैं कि हम झूठ नहीं बोलते
एक बार खैरियत तो पूछ के देखियें
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari Hindi

कुछ बातें तब तक समझ में नहीं आती
जब तक ख़ुद पर ना गुजरे
Gulzar Sahab

शायर बनना बहुत आसान हैं
बस एक अधूरी मोहब्बत की मुकम्मल डिग्री चाहिए
-Gulzar Sahab

गुलज़ार शायरी | Gulzar Shayari Sad

Gulzar Shayari Sad | गुलज़ार शायरी इमेजेज

ज्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र के साथ
बस बचपन की जिद्द समझौतों में बदल जाती हैं
-Gulzar Sahab

बचपन में भरी दुपहरी में नाप आते थे पूरा मोहल्ला
जब से डिग्रियां समझ में आयी पांव जलने लगे हैं
Gulzar Sahab

Gulzar Shayari On Zindagi

कुछ जख्मो की उम्र नहीं होती हैं
ताउम्र साथ चलते हैं, जिस्मो के ख़ाक होने तक
-Gulzar Sahab

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उनको
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया
Gulzar Sahab

Zindagi Gulzar Hai Quotes

कभी जिंदगी एक पल में गुजर जाती हैं
और कभी जिंदगी का एक पल नहीं गुजरता
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari | गुलज़ार साहब की शायरी कोट्स

Gulzar Shayari | गुलज़ार साहब की शायरी कोट्स

समेट लो इन नाजुक पलो को
ना जाने ये लम्हे हो ना हो
हो भी ये लम्हे क्या मालूम शामिल
उन पलो में हम हो ना हो

कुछ अलग करना हो तो
भीड़ से हट के चलिए,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं
-Gulzar Sahab

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ
-Gulzar Sahab

,Gulzar Shayari Romantic,Gulzar Shayari Quoteshindi,Gulzar Shayari In Hindi 2 Lines | two line shayari,Two Line Gulzar Shayari,Gulzar Shayari Images,Gulzar Ki Shayari,Shayari Gulzar.

Gulzar Shayari Romantic

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता
-Gulzar Sahab

अच्छी किताबें और अच्छे लोग
तुरंत समझ में नहीं आते हैं,
उन्हें पढना पड़ता हैं
-Gulzar Sahab

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari Quoteshindi

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई
-Gulzar Sahab

इतना क्यों सिखाई जा रही हो जिंदगी
हमें कौन से सदिया गुजारनी है यहां
Gulzar Sahab

Gulzar Shayari In Hindi 2 Lines | two line shayari

Gulzar Shayari In Hindi 2 Lines | two line shayari

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई
-Gulzar Sahab

आज हर ख़ामोशी को मिटा देने का मन है
जो भी छिपा रखा है मन में लूटा देने का मन है..
-Gulzar Sahab

थोड़ा सा रफू करके देखिए ना
फिर से नई सी लगेगी
जिंदगी ही तो है
Gulzar Sahab

Two Line Gulzar Shayari

मैं वो क्यों बनु जो तुम्हें चाहिए
तुम्हें वो कबूल क्यों नहीं
जो मैं हूं
Gulzar Sahab

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं
-Gulzar Sahab

बहुत छाले हैं उसके पैरों में
कमबख्त उसूलो पर चल होगा
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari Images

सुनो…
जब कभी देख लुं तुमको
तो मुझे महसूस होता है कि
दुनिया खूबसूरत है
-Gulzar Sahab

मैं दिया हूँ
मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं
-Gulzar Sahab

बहुत अंदर तक जला देती हैं,
वो शिकायते जो बया नहीं होती
Gulzar Sahab

Gulzar Ki Shayari

एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद
दूसरा सपना देखने के हौसले का नाम जिंदगी हैं
-Gulzar Sahab

घर में अपनों से उतना ही रूठो
कि आपकी बात और दूसरों की इज्जत,
दोनों बरक़रार रह सके
Gulzar Sahab

कौन कहता हैं कि हम झूठ नहीं बोलते
एक बार खैरियत तो पूछ के देखियें
-Gulzar Sahab

Shayari Gulzar

कुछ बातें तब तक समझ में नहीं आती
जब तक ख़ुद पर ना गुजरे
Gulzar Sahab

शायर बनना बहुत आसान हैं
बस एक अधूरी मोहब्बत की मुकम्मल डिग्री चाहिए
-Gulzar Sahab

ज्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र के साथ
बस बचपन की जिद्द समझौतों में बदल जाती हैं
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari On Life,Gulzar Shayari On Love,Shayari By Gulzar,Gulzar Shayari On Zindagi,Gulzar Shayari On Yaadein,Gulzar Shayari On Eyes,Gulzar quotes In Hindi,Gulzar Sahab Quotes Status In HIndi.

Gulzar Shayari On Life

बचपन में भरी दुपहरी में नाप आते थे पूरा मोहल्ला
जब से डिग्रियां समझ में आयी पांव जलने लगे हैं
Gulzar Sahab

कुछ जख्मो की उम्र नहीं होती हैं
ताउम्र साथ चलते हैं, जिस्मो के ख़ाक होने तक
-Gulzar Sahab

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उनको
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया
Gulzar Sahab

Gulzar Shayari On Love

कभी जिंदगी एक पल में गुजर जाती हैं
और कभी जिंदगी का एक पल नहीं गुजरता
-Gulzar Sahab

समेट लो इन नाजुक पलो को
ना जाने ये लम्हे हो ना हो
हो भी ये लम्हे क्या मालूम शामिल
उन पलो में हम हो ना हो

Shayari By Gulzar

कुछ अलग करना हो तो
भीड़ से हट के चलिए,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं
-Gulzar Sahab

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ
-Gulzar Sahab

थोड़ा सा रफू करके देखिए ना
फिर से नई सी लगेगी
जिंदगी ही तो है
Gulzar Sahab.

Gulzar Shayari On Zindagi

मैं वो क्यों बनु जो तुम्हें चाहिए
तुम्हें वो कबूल क्यों नहीं
जो मैं हूं
Gulzar Sahab

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं
-Gulzar Sahab

बहुत छाले हैं उसके पैरों में
कमबख्त उसूलो पर चल होगा
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari On Yaadein

सुनो…
जब कभी देख लुं तुमको
तो मुझे महसूस होता है कि
दुनिया खूबसूरत है
-Gulzar Sahab

मैं दिया हूँ
मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं
-Gulzar Sahab

बहुत अंदर तक जला देती हैं,
वो शिकायते जो बया नहीं होती
Gulzar Sahab

एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद
दूसरा सपना देखने के हौसले का नाम जिंदगी हैं
-Gulzar Sahab

घर में अपनों से उतना ही रूठो
कि आपकी बात और दूसरों की इज्जत,
दोनों बरक़रार रह सके
Gulzar Sahab

कौन कहता हैं कि हम झूठ नहीं बोलते
एक बार खैरियत तो पूछ के देखियें
-Gulzar Sahab

कुछ बातें तब तक समझ में नहीं आती
जब तक ख़ुद पर ना गुजरे
Gulzar Sahab

Gulzar Shayari On Eyes

शायर बनना बहुत आसान हैं
बस एक अधूरी मोहब्बत की मुकम्मल डिग्री चाहिए
-Gulzar Sahab

ज्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र के साथ
बस बचपन की जिद्द समझौतों में बदल जाती हैं
-Gulzar Sahab

बचपन में भरी दुपहरी में नाप आते थे पूरा मोहल्ला
जब से डिग्रियां समझ में आयी पांव जलने लगे हैं
Gulzar Sahab

Gulzar quotes In Hindi

कुछ जख्मो की उम्र नहीं होती हैं
ताउम्र साथ चलते हैं, जिस्मो के ख़ाक होने तक
-Gulzar Sahab

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उनको
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया
Gulzar Sahab

कभी जिंदगी एक पल में गुजर जाती हैं
और कभी जिंदगी का एक पल नहीं गुजरता
-Gulzar Sahab

Gulzar Sahab Quotes Status In HIndi

समेट लो इन नाजुक पलो को
ना जाने ये लम्हे हो ना हो
हो भी ये लम्हे क्या मालूम शामिल
उन पलो में हम हो ना हो

कुछ अलग करना हो तो
भीड़ से हट के चलिए,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं
-Gulzar Sahab

Gulzar shayari quotes Hindi

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ
-Gulzar Sahab

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता
-Gulzar Sahab

अच्छी किताबें और अच्छे लोग
तुरंत समझ में नहीं आते हैं,
उन्हें पढना पड़ता हैं
-Gulzar Sahab

गुलज़ार शायरी

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है
-Gulzar Sahab

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई
-Gulzar Sahab

कोट्स ऑफ़ गुलज़ार

इतना क्यों सिखाई जा रही हो जिंदगी
हमें कौन से सदिया गुजारनी है यहां
Gulzar Sahab

बहुत छाले हैं उसके पैरों में
कमबख्त उसूलो पर चल होगा
-Gulzar Sahab

गुलज़ार साहब के कोट्स

सुनो…
जब कभी देख लुं तुमको
तो मुझे महसूस होता है कि
दुनिया खूबसूरत है
-Gulzar Sahab

मैं दिया हूँ
मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं
-Gulzar Sahab

उसने कागज की कई कश्तिया पानी उतारी और
ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे
-Gulzar Sahab

Gulzar shayari quotes Hindi,गुलज़ार शायरी ,कोट्स ऑफ़ गुलज़ार ,गुलज़ार साहब के कोट्स ,गुलज़ार शायरी हिंदी मे,Gulzar shayari quotes Status In HIndi,Gulzar Shayari images In Hindi,Gulzar Best Shayari Quotes.

गुलज़ार शायरी हिंदी मे

तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं
ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं
-Gulzar Sahab

लोग कहते हैं मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
यूं तो लबरेज़ हैं पानी से मगर प्यासी हैं
-Gulzar Sahab

कभी जिंदगी एक पल में गुजर जाती हैं
और कभी जिंदगी का एक पल नहीं गुजरता
-Gulzar Sahab

समेट लो इन नाजुक पलो को
ना जाने ये लम्हे हो ना हो
हो भी ये लम्हे क्या मालूम शामिल
उन पलो में हम हो ना हो
Gulzar Sahab

Gulzar shayari quotes Status In HIndi

उसने कागज की कई कश्तिया पानी उतारी और
ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे
-Gulzar Sahab

तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं
ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं
-Gulzar Sahab

लोग कहते हैं मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
यूं तो लबरेज़ हैं पानी से मगर प्यासी हैं
-Gulzar Sahab

Gulzar Shayari images In Hindi

उसने कागज की कई कश्तिया पानी उतारी और
ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे
-Gulzar Sahab

तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं
ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं
-Gulzar Sahab

लोग कहते हैं मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
यूं तो लबरेज़ हैं पानी से मगर प्यासी हैं
-Gulzar Sahab

उसने कागज की कई कश्तिया पानी उतारी और
ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे
-Gulzar Sahab

तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं
ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं
-Gulzar Sahab

लोग कहते हैं मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
यूं तो लबरेज़ हैं पानी से मगर प्यासी हैं
-Gulzar Sahab

Gulzar Best Shayari Quotes

उसने कागज की कई कश्तिया पानी उतारी और
ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे
-Gulzar Sahab

तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं
ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं
-Gulzar Sahab

लोग कहते हैं मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
यूं तो लबरेज़ हैं पानी से मगर प्यासी हैं
-Gulzar Sahab

Thankyou..

- Advertisment -

Most Popular

DMCA.com Protection Status